संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण (Sansad me Rashtrapati ka Abhibhashan)

0 Reviews

Edited By : Mishra S.N.

Publisher: Northern Book Centre

Book Price: 1400.00

Offer Price: 1260.00

10%
In Stock

Low cost in India and Worldwide.

संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण (Sansad me Rashtrapati ka Abhibhashan)

Summary of the Book

 

पुस्तक के विषय में

संविधान के अंतर्गत, ऱाष्ट्रपति कार्यपालिका का प्रमुख होता है और संसद का एक घटक भी होता है। यह कार्यपालिका और विधायिका के सर्वोच्च प्राधिकारों के वास्तविक सम्मिश्रण को दर्शाता है। संविधान में ऱाष्ट्रपति के लिए यह अनिवार्य किया गया है कि वह लोग सभा के लिए प्रत्येक आम चुनाव के पश्चात प्रथम सञ के आरम्भ में और प्रत्येक वर्ष के प्रथम सञ के आरम्भ में संसद की एक साथ समवेत दोनों सभाओं में अभिभाषण करेगा और संसद को उसके आहूत किये जाने के कारण बताएगा।

iqLrd ds fo"k; esa

lafo/kku ds varxZr] jk"Vªifr dk;Zikfydk dk izeq[k gksrk gS vkSj laln dk ,d ?kVd Hkh gksrk gSA ;g dk;Zikfydk vkSj fo/kkf;dk ds loksZPp izkf/kdkjksa ds okLrfod lfEeJ.k dks n'kkZrk gSA lafo/kku esa jk"Vªifr ds fy, ;g vfuok;Z fd;k x;k gS fd og yksd lHkk ds fy, izR;sd vke pquko ds i'pkr~ izFke l= ds vkjEHk esa vkSj izR;ds o"kZ ds izFke l= ds vkjEHk esa laln dh ,d lkFk leosr nksuksa lHkkvksa esa vfHkHkk"k.k djsxk vkSj laln dks mlds vkgwr fd;s tkus ds dkj.k crk,xkA

    bl izdkj jk"Vªifr ds  vfHkHkk"k.k  dk  ljdkj ds uhfr laca/kh oDrO; ds :i esa ,d vR;Ur egÙoiw.kZ LFkku gSA ;g vfHkHkk"k.k ljdkj }kjk rS;kj fd;k tkrk gS vkSj blesa iwoZorhZ o"kZ ds nkSjku ljdkj }kjk fd, x, dk;ksZ rFkk miyfC/k;ksa dh leh{kk gksrh gSA blesa egÙoiw.kZ vkarfjd ,oa lelkef;d varjkZ"Vªh; leL;kvksa dk Hkh mYys[k fd;k tkrk gSA bl vfHkHkk"k.k esa orZeku l= ds fy, ljdkjh dk;ksZa dk laf{kIr C;kSjk Hkh fn;k tkrk gSA

    orZeku [kaM esa] 1950 ls Qjojh 1996 rd ds vfHkHkk"k.kksa dks 'kkfey fd;k x;k gSA ;g lkalnksa] 'kks/kdZrkvksa] fo}kuksa rFkk mu lHkh yksxksa ds fy, mi;ksxh gS ftudh laoS/kkfud ,oa lalnh; v/;;u esa #fp gSA

 

 

Book Content

Author / Editors / Contributors

Edited By :

Reviews

Top reviews list the most relevant product review only. Show All instead?

There is no Review on this Book !!!