चाणक्य जाग उठो (Chankaya Jaag Uthoo)

0 Reviews

Publisher: Northern Book Centre

Book Price: 490.00

Offer Price: 415.00

15%
In Stock

Low cost in India and Worldwide.

चाणक्य जाग उठो (Chankaya Jaag Uthoo)

Summary of the Book

 pk.kD; dsoy yEch pksVh okys fdlh dq:i&czkã.k dk uke ugha] jktuhfr dks lefiZr fdlh dwVuhfrK dk uke ugha vkSj u gh pUnzxqIr ds tUenkrk fdlh riLoh&f'k{kd dk uke gSA pk.kD; rks izR;sd O;fDr esa cSBh gqbZ ml ewyHkwr&lÙkk dk uke gS tks l`f"V dh izR;sd bdkbZ dk j{kd gS] iks"kd gS vkSj lao/kZd HkhA og Hkwfe] tu vkSj laLÑfr ds la?kkr ls mith jk"Vª :ih lÙkk dk izk.k Hkh gSA jk"Vª&fgr mlds fy, lnSo loksZifj gSA

MkW- czãnÙk voLFkh th ds bl fucU/k&laxzg esa izR;sd 'kCn] izR;sd okD;] izR;sd Hkko vkSj izR;sd fopkj O;fä ds vUrl esa cSB mldh lÙkk dks >d>ksjrk gS vkSj lgòksa&lw;ks± dh vuUr vykSfdd&'kfä mlesa mrkj vylkbZ iydksa dks /khjs&/khjs [kksyrk gS rc l`f"V dk d.k&d.k dg mBrk gS  pk.kD; tkx mBksA

n`"VO;

psruk ds Lrj ij tc Lusfgy pksV iM+rh gS rc vUrl~ dh vVdh ia[kqfM+;k¡ f[ky mBrh gSa vkSj O;fä gksus dk eeZ le> esa vkus yxrk gSA

ftu yksxksa us MkW- voLFkh ds thou dks utnhd ls ugha ns[kk muds  eu esa muds izfr ,d fo'ks"k&/kkj.kk gks ldrh gS] bl iqLrd ds ys[k mudh ml fo'ks"k&/kkj.kk ls rks ifjp; djokrs gh gSa lkFk gh lkFk muds ekuork ls ifjiw.kZ g`n; ds ml fo'kky iVy ij mrkjrs Hkh gSa tgk¡ O;fä&O;fä esa] cPps&cPps esa dgha dksbZ Hksn ugha gksrkA

dHkh&dHkh eu es fopkj vkrk gS fd eSa bl iqLrd dks D;ksa i<w¡\ ;g esjs fdl dke dh\ ij bl fojkV Ñfr dks i<+us ds ckn vn~Hkqr:i ls tks dqN vUnj ?kfVr gksus yxrk gS og gtkjksa izfr/ofu;k¡ vkdk'k esa xq¡tkrk gS fd  bls eSa ugha i<+rk rks dkSu\

vfHker

gSnjkckn esa fo'o fgUnw ifj"kn dh vUrjkZ"Vªh; okf"kZd cSBd py jgh FkhA ns'k&fons'k ls ièkkjs 400 ls vfèkd fo}ku jk"Vª&lkèkuk esa yxs egkuqHkkoksa] lUrksa] fopkjdksa ds chp jk"Vªh;&egRo ds fo"k;ksa ij ppkZ gks jgh Fkh rHkh ekuuh; v'kksd flagy th us MkW- czãnÙk voLFkh dks vius fopkj O;Dr djus dks dgkA

MkW- voLFkh us vius fopkjksa ls fo"k;oLrq dks bl rjg j[kk fd lHkh yksx muds lq>ko ij lger gks x,A ,slh gS mudh Hkk"k.k 'kSyh o fo"k; lEcUèkh Kku dh xgjkbZA

izksQslj dey fd'kksj xqIr
dkuiqj

czãnÙk voLFkh ;g esjs fy, ,d O;fDr fo'ks"k dk uke ugha vfirq ,d ifo=k fopkj izokg dk uke gSA bl izokg dh èkkjk cgqr rst gS ij bldk vUrjax cgqr xgjk vkSj cgqr 'kkUr gSA fo}Ùkk] n`<+rk] eèkqjrk vkSj fouezrk dk foy{k.k laxe gS muds thou esa ijUrq thou&ewY;ksa ij dgha dksbZ le>kSrk ughaA

vksadkj Hkkos
vUrjkZ"Vªh; la;qDr egkeU=h
fo'o fgUnw ifj"kn

ftl izdkj ,d gh 'ok¡l esa mPpfjr fl) xk;=h&eU= ewykèkkj ls ysdj lgkj&pØ o Hkw&yksd ls ysdj vuUr&yksd rd dh fuckZèk&;k=k iwjh djrk gS mlh izdkj esjs iwT; firkJh MkW- czãnÙk th voLFkh leLr pØksa o yksdksa dks vius esa vkRelkr~ fd, gq, viuh thoukofèk ds xk;=h&eU= dh dBksjre lkèkuk dj viuh fuckZèk&;k=k ij pyrs gq,] vuUr 'kfDr;ksa dk Lokeh Lo;a dks ugha oju~ bl fojkV~&lekt dks cuk jgs gSaA

MkW- izHkkdj dqekj voLFkh
jk.kk f'k{kk f'kfoj ¼LukrdksÙkj½ egkfo|ky;
fiy[kqok] iap'khyuxj ¼gkiqM+½

 

पाञ्चजन्य, शिवओम अम्बर, तारीखः 12/8/2012

डाॅब्रह्मदत्त अवस्थी की चेतना और चिन्तना में राष्ट्र का निवास है, उसकी हित कामना उनकी श्वास-प्रश्वास का सहज कर्म है और शक्ति भर उसकी प्रसुप्त सामर्थ्य जगाने का अभियान उनके लिये एक याज्ञिक अनुष्ठान की तरह है। इसी प्रक्रिया में उनकी अनेकानेक पुस्तकें आकार पाती रही हैं। उनके उद्बोधक विचारों की वाहिका अभिनव कृति है 'चाणक्य जाग उठो'। 'लेखकीय' की प्रस्तुत पंक्तियां इस पुस्तक की सृजन-प्रक्रिया के बीज रूप में विराजमान उस भावोद्वेलन को संकेतित करती हैं जो डाॅ. ब्रह्मदत्त अवस्थी को बढ़ती उम्र के इस सोपान पर भी निरन्तर क्रियाशील रखता है - 'आज राष्ट्र का भाव लुप्त है। राष्ट्र का विराट पुरुष-जिसे अरविन्द ने पूजा, जिसे बंकिम ने आराधा, जिसके लिये वन्दे मातरम् कह भगत सिंह ने फांसी का फन्दा चूमा, चन्द्रशेखर आजाद ने स्वयं अपना बलिदान दिया- वह विराट कहीं खोजे नहीं मिलता। जिसकी चेतना को सूर और कबीरा ने, जिसकी भावना और धारणा को तुलसी और मीरा ने, जिसकी धड़कन और सिहरन को प्रसाद और निराला ने, जिसकी अस्मिता को द्विवेदी और मैथिली ने गाया, गुनगुनाया, जन-जन में बिठाया उस विराट् को आज की राजनीति ने गहरी नींद सुला दिया।' डाॅ. ब्रह्मदत्त अवस्थी की मान्यता है कि चाणक्य अर्थात उच्च आदर्शों को समर्पित विचारशील व्यक्तित्वों का समुदाय यदि जागकर आगे बढ़े तो समूचे समाज में जागरण की तीव्र लहर व्याप्त हो जायेगी, उसे दिशाबोध उपलब्ध हो जायेगा और वह राष्ट्र को परम वैभवमय बनाने के पथ पर आगे बढ़ सकेगा।

   सिसकती राष्ट्र-अस्मिता, त्वदीयाय कार्याय, भारत की वैश्विक भूमिका, राष्ट्र-चेतना और राष्ट्र-रक्षा आदि उनके विविध निबन्धों के शीर्षक ही अपनी अन्तर्वस्तु को ज्ञापित करते हुए हर विचारशील को उनके अध्ययन के लिये प्रेरित करते हैं। अवस्थी जी की भाषा में एक वेगवती स्रोतस्विनी का प्रवाह है। वह मन-प्राण को आन्दोलित करते हुए हमारे चित्त में स्व-बोध को जगाती है, अपने आप पर गर्व करना सिखाती है। भू-राष्ट्रवाद की अवस्थी जी की अवतारणा अभिनव है और सहज ही ध्यान आकर्षित करती है - 'फूंक एक ही है किन्तु ध्वनि शंख की अलग है, बीन की अलग है और सीटी की अलग है। इसका प्रभाव भी अलग है, इसका गुण भी अलग है। प्रभु की चेतना भी इसी प्रकार सभी भौगोलिक इकाइयों (देशों) में संचरित होती हुई बाहर फूटती है तो अपनी पहचान और अपनी गुणवत्ता ले अलग-अलग देशों के अनुरूप प्रगट होती है।....... सृष्टि में संचारित होती हुई प्रभु-चेतना का दिव्यतम स्वरूप हिन्दुस्थान में प्रकट दिखाई पड़ता है।'

 

 

डॉ. ब्रह्मदत्त अवस्थी, लेखक व श्री प्रताप वैश्य जी, प्रकाशक, नार्दर्न बुक सेंटर, नई दिल्ली से

पुस्तक जाग उठो पर विमोचन के उपरांत हस्ताक्षर कराते हुए प्रोफेसर हदय नारायण सिंह जी

 

    व्यक्ति के कृतित्व का सम्यक् आकलन उसके व्यक्तित्व पर दृष्टि डाले बिना संभव नहीं है। वस्तुत: किसी भी शब्द में शक्ति उसके प्रयोक्ता के अन्तर्व्यक्तित्व से उभर कर सम्प्रेषित होती है। विश्व हिन्दू परिषद के अन्तर्राष्ट्रीय संयुक्त महामन्त्री श्री ओंकार भावे ने डाॅ. ब्रह्मदत्त अवस्थी के प्रेरक व्यक्तित्व को इस प्रकार शब्दायित किया है - 'ब्रह्मदत्त अवस्थी - यह मेरे लिये एक व्यक्ति विशेष का नाम नहीं अपितु एक पवित्र विचार प्रवाह का नाम है। इस प्रवाह की धारा बहुत तेज है, पर इसका अन्तरंग बहुत गहरा और बहुत शान्त है। विद्वत्ता-दृढ़ता, मधुरता और विनम्रता का विलक्षण संगम है उनके जीवन में, परन्तु जीवन-मूल्यों पर कहीं कोई समझौता नहीं।'

   यहाँ स्मरणीय है कि जब डा. ब्रह्मदत्त अवस्थी के अमृत महोत्सव के 'राष्ट्र चेतना के चरण' नामक ग्रन्थ का लोकार्पण करने के लिए श्री कुप्.सी. सुदर्शन पधारे थे, उन्होंने बहुत भाव गद्-गद होकर उनके व्यक्तित्व का अभिनन्दन और कृतित्व का वन्दन किया था। अविराम लोकार्चन, अम्लान चिंतन और अकुंठ सृजन से संयुक्त ऐसा व्यक्तित्व ही जागरण के मन्त्रों का दृष्टा और उद्-गाता हो सकता है। 

शिवओम अम्बर

(पाञ्चजन्य से साभार)

Book Content

 

 

Author / Editors / Contributors

Reviews

Top reviews list the most relevant product review only. Show All instead?

There is no Review on this Book !!!